मैं भी पढ़ पाता काश

Standard

मैं भी पढ़ पाता काश ,
मेरे लिए भी किसी ने किया होता प्रयास ,
किताबे और पेंसिल होती मेरे पास
मैं भी पढ़ पाता काश |
होती एक उम्मीद मेरे भी पास ,
इरादे मेरे भी होते छूने को आकाश
मैं भी पढ़ पाता काश |
शाप सी जिंदगी से छुटकारा मिल जाता
पास के किसी स्कूल मैं भी पढ़ पाता
ख्वाब पुरे नहीं तो देख ही पाता
काश मेरे लिए भी कोई प्रयास होता |
कोई मुझे भी पढ़ायेगा
शायद कोई मुझे भी प्रयास ले जायेगा !!!

1964887_395426213969715_726287265347287830_n

-Vikas Kumar

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s